नवरात्रि 2018 – कब है? 2018 पावन पर्व शारदीय नवरात्रि तिथि मुहूर्त

0 votes

आदिशक्ति जगद्जननी जगदम्बा के आराधना का पावन पर्व शारदीय नवरात्र 10 अक्टूबर 2018 से प्रारम्भ हो रहा है।10 अक्टूबर को प्रातः 7 बजकर 56 मिनट तक प्रतिपदा तिथि है अतएव कलश स्थापना इस समय तक सम्पन्न करना कराना श्रेयष्कर रहेगा। अभिजीत नक्षत्र दिन में 11बज कर 37 मिनट से 12 बज कर 23 मिनट तक मुहूर्त है।अतः जो अभजित नक्षत्र में कलश स्थापना करते है वे इस समय तक करले ।किसी कारण बस जो लोग इन दोनों मुहूर्तों में कलश स्थापना नही कर पाए वे धर्मशास्त्र के मतानुसार सूर्योदय कालिक प्रतिपदा होने से राहुकाल को छोड़कर पूरे दिन 10 अक्टूबर को कलश स्थापना कर सकते है। राहुकाल दिन में 12 बजकर 8 मिनट से 1 बजकर 35 मिनट तक है। किसी भी परिस्थिति में शक्ति उपासना नवरात्र में अवश्य करना चाहिये ।माता रानी आपके सभी मनोरथ को प्रदान करेगी।
इस बार नवरात्र 9 दिन का है जो अत्यन्त ही शुभकारक है इस नवरात्र में सर्वार्थ सिद्ध योग सहित अनेक शुभ योग बन रहा है।

मान्यता के अनुसार भगवती का आगमन इस बार नौका पर हो रहा है । नौका पर आगमन सर्व सिद्धि को प्रदान करने वाला है।एवं भगवती का गमन गज पर है जो शुभकारक है।

नवरात्र के प्रत्येक दिन देवी के अलग-अलग नव रूपो के पूजन का विधान है नवरात्र में सप्तशती का पाठ स्वयं अथवा ब्राह्मण से करना चाहिये माता को सप्तशती का पाठ अत्यंत प्रिय है यह सभी मनोरथो को पूर्ण करने वाला है। नवरात्र में कुमारी पूजन अत्यंत उत्तम माना जाता है मान्यता के अनुसार जिस घर मे नवरात्र में कुमारी पूजन होता है उस घर मे भगवती पूर्ण कृपा होती है।जो मनुष्य प्रथम और अंतिम दिन का व्रत रखते है वे 10 अक्टूबर को प्रथम दिन का व्रत तथा अष्टमी का व्रत 17 अक्टूबर को रहेंगे।इस बार महानिशा पूजा 16 अक्टूबर को है महानवमी 18 अक्टूबर है इस दिन हवन दोपहर 2 बज कर 32 मिनट तक करना कराना उत्तम रहेगा क्योंकि नवमी 2 बज कर 32 मिनट तक है । 19 अक्टूबर को विजयादशमी है इसी दिन नवदिन का व्रत रखने वाले पारण करेंगे विजयादशमी के दिन नीलकंठ दर्शन शमी पूजन अपराजिता पूजन जयंती ग्रहण का विधान है।
परम्परा अनुसार पंडाल पूजन करने वाले षष्ठी तिथि 15 अक्टूबर को विल्वाभिमंत्रण द्वारा भगवती को आमंत्रित करें एवं दूसरे दिन सप्तमी तिथि 16 अक्टूबर को भगवती जगदम्बा का पट विधि पूर्वक खोलें। माता रानी की आराधना आप सभी के सम्पूर्ण मनोरथ को पूर्ण करें

Leave a comment